Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
राजस्थान के जिले राजस्थान GK नोट्स

बूंदी जिला {Bundi District} राजस्थान GK अध्ययन नोट्स

1. महत्वपूर्ण तथ्य

  • बूंदी जिले का कुल क्षेत्रफल = 5550 किमी²
  • बूंदी जिले की जनसंख्या (2011) = 11,13,725
  • बूंदी जिले का संभागीय मुख्यालय = कोटा

2. भौगोलिक स्थिति

  • भौगोलिक स्थिति: 25.44°N 75.64°E
  • राजस्थान के दक्षिण-पूर्व में स्थित बूँदी एक पूर्व रियासत एवं ज़िला मुख्यालय है।
  • इसकी स्थापना सन् 1242 ई. में राव देवाजी ने की थी।
  • बूँदी पहाड़ियों से घिरा सघन वनाच्छादित सुरम्य नगर है।

3. इतिहास

  • बूँदी की स्थापना सन् 1242 ई. में राव देवाजी ने की थी।
  • यहाँ के शासक राव सुर्जन हाड़ा ने अकबर की अधीनता स्वीकार कर ली थी।
  • शाहजहाँ के समय बूँदी के शासक छत्रसाल हाड़ा ने दारा की ओर से धरमत की लड़ाई में भाग लिया था, किंतु वह इस युद्ध में मारा गया।
  • बूँदी अपनी विशिष्ट चित्रकला शैली के लिए विख्यात है, जो इस अंचल में मध्यकाल में विकसित हुई।
  • बूँदी चित्रकला के विषयों में शिकार, सवारी, रामलीला, स्नानरत नायिका, विचरण करते हाथी, शेर, हिरण, गगनचारी पक्षी, पेड़ों पर फुदकते शाखामृग आदि रहे हैं।
  • हाडा शासक राव देवा ने बूँदा को हराकर बूँदी पर अपना कब्ज़ा कर लिया फिर इसे अपनी राजधानी बनाया। सन 1947 में भारत के स्वतंत्र होने तक बूँदी एक स्वतंत्र रियासत के रूप में कायम रहा।

4. कला एवं संस्कृति

  • बूँदी चित्रकला राजस्थान की राजपूत चित्रकला शैली में से एक है।
  • बूँदी शैली में कदली, आम व पीपल के वृक्षों के साथ-साथ फूल-पत्तियों और बेलों को चित्रित किया गया है।
  • मुग़लों की अधीनता में आने के बाद यहाँ की चित्रकला में नया मोड़ आया। यहाँ की चित्रकला पर उत्तरोत्तर मुग़ल प्रभाव बढ़ने लगा।
  • कजली तीज, गणगौर, बूंदी महोत्सव प्रमुख त्यौहार है

5. शिक्षा

  • यहाँ Kota एवं राजस्थान विश्वविद्यालय से संलग्न अनैक महाविद्यालय हैं
  • प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा हेतु सरकारी स्कूल ही प्रमुख हैं

6. खनिज एवं कृषि

  • बूंदी अर्थव्यवस्था मुख्य रूप से कृषि, कपड़ा और पर्यटन उद्योग पर आधारित है।
  • हस्तशिल्प उद्योग राजस्थान में बूंदी की आर्थिक समृद्धि में एक निर्णायक भूमिका निभाता है।
  1. प्रमुख स्थल
  • तारागढ का दुर्ग अरावली पर्वत पर स्थित है। इसे 'बुंदी का किला' भी कहा जाता है। 14वीं शताब्दी में बूंदी के संस्थापक राव देव हाड़ा ने इस सुदृढ़ किले का निर्माण कराया था।
  • बूंदी पैलेस तारागढ़ किले के निकट ढाल पर स्थित है और अपनी भव्य पारंपरिक भित्ति चित्र और भित्ति चित्रों के लिए उल्लेखनीय है।
  • बूंदी के की सीढ़ीदार बावड़ियां प्रसिद्द हैं जिनमें, 1699 में बनी नाथावतजी की बावड़ी प्रमुख हैं

8. नदी एवं झीलें

  • नवलसागर, बधाईकुण्ड एवं जैत सागर झील प्रमुख झीलें हैं
  • बनास, कराई, पार्वती एवं कालीसिंध प्रमुख नदियां बूंदी में प्रवाह करती है

9. परिवहन और यातायात

  • बूंदी रेलमार्ग से जुड़ा हुआ नहीं है, सबसे नजदीक कोटा रेलवे स्टेशन है जो 35 KM दूर है।
  • बूंदी सड़क मार्ग से अजमेर एवं कोटा से जुड़ा हुआ है।
  • बूंदी का सबसे नज़दीकी हवाईअड्डा जयपुर में है।

10. उद्योग और व्यापार

  • कृषि यहां का मुख्य पेशा है।
  • हस्तशिल्प एवं पेंटिंग का अर्थव्यवस्था में प्रमुख योगदान है

Leave a Comment

/* ]]> */