Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
राजस्थान के जिले राजस्थान GK नोट्स

कोटा जिला {Kota District} राजस्थान GK अध्ययन नोट्स

1. महत्वपूर्ण तथ्य

  • कोटा जिले का कुल क्षेत्रफल = 12,436 किमी²
  • कोटा जिले की जनसंख्या (2011) = 19,50,491
  • कोटा जिले का संभागीय मुख्यालय = कोटा
  • कोटा राजस्थान का एक प्रमुख औद्योगिक एवं शैक्षणिक शहर है।

2. भौगोलिक स्थिति

  • भौगोलिक स्थिति: 25.18°N 75.83°E
  • कोटा चम्बल नदी के पूर्वी तट पर स्थित है।
  • यह राजस्थान के दक्षिणी भाग में आता है।
  • कोटा हाड़ौती क्षेत्र में स्थित है

3. इतिहास

  • प्रारंभ में कोटा बूंदी राज्य का एक हिस्सा था।
  • मुगल शासक जहांगीर ने जब बूंदी के शासकों को पराजित किया तो बूंदी 1624 ई. में एक स्वतंत्र राज्य के रूप में स्थापित हुआ।
  • 1631 में शाहजहाँ द्वारा राव रतन सिंह के बेटे को कोटा का शासक घोषित कर दिया गया, तब से कोटा स्वतंत्र रूप से कार्य करने लगा।
  • 1818 ई. में कोटा ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन हो गया।

4. कला एवं संस्कृति

  • कोटा "डोरिया" साड़ियों के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध है।
  • यह शहर नवीनता और प्राचीनता का अनूठा मिश्रण है।
  • यहाँ हाड़ोती अंचल की एक अलग ही आभा है

5. शिक्षा

  • कोटा में मुख्य रूप से तीन विश्वविद्यालय हैं : राजस्थान टेक्निकल यूनिवर्सिटी, कोटा यूनिवर्सिटी और वर्धमान महावीर ओपन यूनिवर्सिटी।
  • यहाँ पर विभिन्न इंजीनियरिंग, मेडिकल और अन्य सामान्य कॉलेज भी हैं।
  • प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा हेतु सरकारी, स्कूल, मिलिट्री स्कूल एवं निजी क्षेत्र की कई अच्छी स्कूल हैं

6. खनिज एवं कृषि

  • सभी प्रकार की कृषि यहाँ की जाती है
  • यहाँ पर कॉटन टेक्सटाइल, केमिकल पावर प्लांट्स आदि कई उद्योग-धन्धे उपलब्ध है

7. प्रमुख स्थल

  • सिटी फोर्ट पैलेस: चंबल नदी के पूर्वी तट पर 17 वीं शताब्दी में बना यह किला कोटा का मुख्य आकर्षण है। 17 वीं शताब्दी में बना हाथी पोल किले में प्रवेश का खूबसूरत प्रवेश द्वार है। किले के बुर्ज, बालकनी, गुम्बद, परकोटे बेहद आकर्षक है
  • राव माधो सिंह संग्रहालय पुराने महल में स्थित है और इसे राजस्थान के सबसे बेहतरीन संग्रहालयों में माना जाता है।
  • जगमंदिर महल कोटा की एक रानी द्वारा 1740 ई. में बनवाया गया था। खूबसूरत किशोर सागर झील के मध्य बना यह महल राजाओं के आमोद प्रमोद का स्थान था।
  • चम्बल गार्डन: यह एक खूबसूरत पिकनिक स्पॉट है और यहां मगरमच्छों का तालाब देखा जा सकता है।
  • दर्राह राष्ट्रीय उद्यान या राष्ट्रीय चम्बल वन्य जीव अभ्यारण्य भारत के राजस्थान राज्य में कोटा से 50 कि.मी. दूर है जो घड़ियालों (पतले मुंह वाले मगरमच्छ) के लिए बहुत लोकप्रिय है।
  • श्री केशव राय जी हडोती और हाडा के शासकों के इष्टदेव हैं। केशोरईपाटन भगवान श्री केशव का निवास स्थल है। श्री केशव का मध्यकालीन मंदिर चंबल नदी के किनार स्थित है।

8. नदी एवं झीलें

  • चम्बल यहाँ की एक प्रमुख नदी है
  • किशोर सागर झील बूंदी के राजकुमार धी देह ने 1346 ई. में बनवाई थी। झील में नौकायन का आनन्द भी लिया जा सकता है।

9. परिवहन और यातायात

  • कोटा जंक्शन दिल्ली, जयपुर, मुंबई के साथ देश के प्रमुख शहरों से जुड़ा हुआ है।
  • जयपुर से राष्ट्रीय राजमार्ग 12 से टोंक, देवली और बूंदी होते हुए कोटा पहुंचा जा सकता है। मुम्बई से राष्ट्रीय राजमार्ग 8 और 76 से चित्तौड़गढ़, भातेश्वर, भदौरा, बिचोर और बिलोजियां होते हुए कोटा पहुंचा जा सकता है।
  • नजदीकी एयरपोर्ट जयपुर का सांगानेर विमानक्षेत्र है जो कोटा से 240 किमी. दूर है। वैसे कोटा में भी हवाईअड़ा है, किंतु वहां हाल में कोई उड़ानें उपलब्ध नहीं हैं।

10. उद्योग और व्यापार

  • कोटा एक प्रमुख व्यापारिक केन्द्र है। साथ ही यह एक औद्योगिक नगरी भी है, यहाँ पर कॉटन टेक्सटाइल, केमिकल पावर प्लांट्स आदि कई उद्योग-धन्धे उपलब्ध है, जैसे - डी.सी.एम., सैमटेल, बिड़ला सीमेन्ट, श्रीराम फ़र्टिलाइजर आदि।
  • इसे राजस्थान का 'पावर हाउस' भी कहा जाता है। यह शहर कोटा साड़ी के लिए विशेष रूप से प्रसिद्ध है।
  • कोटा में यहाँ पर स्थित कोचिंग संस्थानों के कारण 'शैक्षणिक नगरी' का नाम मिला। इंजीनियरिंग और मेडिकल की परीक्षाओं में यहाँ के छात्रों को जितनी सफलता मिलती रही है, उतनी की कल्पना भी दूसरे शहर नहीं कर सकते।
  • कोटा की विशेष सूती साड़ियां प्रसिद्ध हैं।

Leave a Comment

/* ]]> */