Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
राजस्थान के जिले राजस्थान GK नोट्स

टोंक जिला {Tonk District} राजस्थान GK अध्ययन नोट्स

1. महत्वपूर्ण तथ्य

  • टोंक जिले का कुल क्षेत्रफल = 7194 किमी²
  • टोंक जिले की जनसंख्या (2011) = 14,21,711
  • टोंक जिले का संभागीय मुख्यालय = अजमेर

2. भौगोलिक स्थिति

  • भौगोलिक स्थिति: 26.17°N 75.78°E
  • टोंक शहर, राजस्थान राज्य के मध्य में स्थित है।
  • टोंक बनास नदी के ठीक दक्षिण में स्थित है।

3. इतिहास

  • टोंक की स्थापना 1643 में हुई थी और यह छोटी पर्वत श्रृंखला की ढलानों पर अवस्थित है।
  • इसके ठीक दक्षिण में क़िला और नए बसे क्षेत्र हैं। आसपास का क्षेत्र मुख्यत: खुला और समतल है, जिसमें बिखरी हुई चट्टानी पहाड़ियाँ हैं।
  • भूतपूर्व टोंक रियासत में राजस्थान एवं मध्य भारत के छह अलग-अलग क्षेत्र आते थे, जिन्हें पठान सरदार अमीर ख़ाँ ने 1798 से 1817 के बीच हासिल किया था।
  • 1948 में यह राजस्थान राज्य का अंग बना।
  • टोंक शहर का नाम अजयमेरू के नाम पर पडा हैं।

4. कला एवं संस्कृति

  • टोंक में राजस्थानी, हिंदी एवं उर्दू भाषा बोली जाती हैं ।
  • टोंक में 35% से अधिक मुस्लिम आबादी हैं, जो राजस्थान के किसी भी जिले का सर्वाधिक हैं
  • टोंक में हिंदू, मुस्लिम एवं जैन धर्म के निवासी सभी त्यौहारों को सौहार्द पूर्वक मनाते हैं ।

5. शिक्षा

  • यहाँ सरकारी एवं अन्य निजी संस्थान हैं
  • प्राथमिक एवं माध्यमिक शिक्षा हेतु सरकारी, स्कूल एवं निजी क्षेत्र की कई स्कूल हैं

6. खनिज एवं कृषि

  • टोंक इस क्षेत्र का प्रमुख कृषि बाज़ार एवं निर्माण केंद्र है।
  • ज्वार, गेहूं, चना, मक्का, कपास और तिलहन यहाँ की मुख्य फ़सलें हैं।
  • यहाँ मुर्ग़ीपालन व मत्स्य पालन होता है तथा अभ्रक व बेरिलियम का खनन होता है।

7. प्रमुख स्थल

  • डिग्गी कल्याण मन्दिर, डिग्गी
  • अरबी फारसी शोध संस्थान
  • माण्डव ऋषि की तपोभूमि - इसे लघु-पुष्कर भी कहा जाता है। यह नगरदुर्ग के पास स्थित है।

8. नदी एवं झीलें

  • बनास एवं बांडी टोंक की दो प्रमुख नदियाँ हैं

9. परिवहन और यातायात

  • टोंक पहुँचने के लिए सबसे बेहतर रोड द्वारा है
  • निकटतम हवाई अड्डा, जयपुर है

10. उद्योग और व्यापार

  • सूती वस्त्र बुनाई, चर्मशोधन और नमदा बनाने की हस्तकला यहाँ के मुख्य उद्योग हैं।
  • यहाँ मुर्ग़ीपालन व मत्स्य पालन होता है तथा अभ्रक व बेरिलियम का खनन होता है।

Leave a Comment

/* ]]> */