Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
Test

रक्त समूह के प्रकार Biology GK

प्रतिजन तथा प्रतिरक्षी की पारस्परिक क्रिया के आधार पर लैण्ड स्टीनर ने मानव रूधिर को 4 वर्गों में विभाजित किया। जो निम्न प्रकार है – A, B, AB तथा O

‘O’ रक्त वर्ग वाला मनुष्य सभी वर्ग वालों को अपना रक्त दे सकते है। अत: इन्हे सर्वदात्राी कहा जाता है।

‘AB’ रक्त वर्ग वाले मनुष्य सभी वर्ग से रक्त ले सकते है अंत: उन्हें सर्वग्राही कहा जाता है।

रक्त वर्ग ‘O’ में लालरूधिर कोशिकाओं की सतह पर प्रतिजन का अभाव होता है। अत: ग्राही की रूधिर के साथ कोर्इ प्रतिक्रिया नहीं होती

रक्त वर्ग ‘AB’ के प्लाज्मा में प्रतिरक्षी का अभाव होता है। अत: दाता के रक्त के साथ कोर्इ प्रतिक्रिया संपत्रा नही होती।

Rh कारक (Rhesus factor) : यह एक प्रकार का प्रतिजन होता है। जो रीसस बन्दरों के रक्त में सर्वप्रथम पाया गया था। Rhकारक की उपस्थिति तथा अनुपस्थिति के आधार पर ही मानव रक्त की Rh-धनात्मक (Rh+) तथा Rh ऋणात्मक (Rh–)कहा जाता है। Rh- कारक शिशु जन्म में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते है। यदि शिशु का रक्त Rh+ तथा माता का रक्त Rh– है तो प्रतिरक्षी आक्रमण करने के कारण शिशु की मृत्यु हो सकती है।

http://www.knowledgeuniverseonline.com/images/biology/blood-chart.pnghttp://www.knowledgeuniverseonline.com/images/biology/blood-chart.png

  • ✔  रक्त एक प्रकार का “तरल संयोजी उत्तक (Fluid connective Tissue)” होता है।
  • ✔  मानव शरीर के कुल भार के 07 प्रतिशत मात्रा में रक्त उसके शरीर में मौजूद होता है।
  • ✔  सम्पूर्ण शरीर में रक्त का परिसंचरण (Blood Circulation) “हृदय (Heart)” करता है।
  • ✔  पी.एच. मान (pH Value) मानव 7.4 रक्त को एक “क्षारीय विलियन (Alkaline Solutions)” बनाता है।
  • ✔  मनुष्य  के शरीर में रक्त की मात्रा शरीर के भार का लगभग “07 प्रतिशत”  होता है।
  • ✔  एक मनुष्य के शरीर में लगभग 05-06 लीटर रक्त रहता है।
  • ✔  पूरे शरीर में एक बार रक्त संचरण (Blood Circulation) में लगभग 23 सेकेण्ड का समय लगता है।
  • ✔  रक्त समूह (Blood Group) की खोज सन् 1901 में “लैण्ड स्टीनर (Karl Landsteiner)” ने किया था।
  • ✔  मनुष्य में चार (“A”, “B”, “AB”, “O”) रक्त समूह पाया जाता है।
  • ✔  रक्त समूह O : “सर्वदाता (Universal Blood Donor)” कहलाता है।
  • ✔  रक्त समूह AB : “सर्वग्राही (Universal Blood Recipient)” होता है।
  • ✔  एक स्वस्थ्य मनुष्य का रक्तदाब (Blood pressure) पारे पर “120 / 80mm” होता है।
  • ✔  श्वसन में शर्करा (Glucose) का आक्सीकरण होता है।
  • ✔  मानव शरीर में होने वाली क्रियाओं का नियमन (Regulation) और नियंत्रण (Control) “तंत्रिका तंत्र (Nervous System)” द्वारा होता है।
  •   एक वयस्क मनुष्य में रक्त की औसत मात्रा 05-06 लीटर होता है। महिलाओं में पुरूषों के मुकाबले 1/2 लीटर रक्त कम होता है।
  •   रक्त का मृत तरल भाग प्लाज्मा (Plasma)‘‘ कहलाता हैयह रक्त का लगभग 60 प्रतिशत होता है।
  •   प्लाज्मा (Plasma) का 90 प्रतिशत भाग जल (Water), 07 प्रतिशत प्रोटीन (Protein), 0.9 प्रतिशत लवण (Salt) तथा0.1 प्रतिशत भाग ग्लूकोज (Glucose) होता है।
  •   पचे हुए भोजन एवं हार्मोन का शरीर में संवहन प्लाज्मा का मुख्य कार्य है।
  •   जब प्लाज्मा से फाइब्रिनोजेन (Fibrinogen) अलग कर दिया जाता है तो शेष बचा हुआ भाग “सेरम (Serum)”कहलाता है।
  •   रक्त के 40 प्रतिशत भाग में रूधिकाणु (Blood Corpuscles) पाये जाते हैंजो कि तीन (03) प्रकारों में – लाल रक्त कण (Red Blood Cell), श्वेत रक्त कण (White Blood Cell), एवं रक्त बिंबाणु (Blood Platelets) में विभक्त हैं ।
  • लाल रक्त कण [Red Blood Cells : RBC] –
  • ✔  सामान्य अवस्था में आर.बी.सी. (RBC) अस्थि मज्जा (Bone Marrow) में तथा भ्रूण अवस्था में यकृत (Liver) में निर्मित होता है।
  • ✔  आर.बी.सी. (Rec Blood Cell) का जीवनकाल 20 से 120 दिन तक होता है। इसकी मृत्यु यकृत में होती हैअतः यकृत को ” आर.बी.सी. (RBC) का कब्र ” कहा जाता है।
  • ✔  आर.बी.सी. में हीमोग्लोबिन (Hemoglobin) पाया जाता हैजिसमें लौह-युक्त रंजक (Pigment) : हीम (Heme) होता है। इसके कारण रक्त का रंग (Blood Color) “लाल (Red)” होता है।
  • ✔  हीम (Heme) में विद्यमान लौह युक्त यौगिक “हीमैटिन (Himatin)” कहलाता है।
  • ✔  आर.बी.सी. शरीर की सभी कोशिकाओं में आॅक्सीजन (O2) पहूँचाने तथा वहाँ से कार्बन डाइआॅक्साइड (CO2)निकालने का कार्य करता है।
  • ✔  “हीमोग्लोबिन (Hemoglobin)” की अल्प मात्रा रहने पर “रक्त क्षीणता (Anaemia)” रोग हो जाता है।
  • ✔  निंद्रा की स्थिति में आर.बी.सी. में 05 प्रतिशत की कमी आती है तथा 4200 मीटर की ऊँचाई तक जाने पर आर.बी.सी. में30 प्रतिशत की वृद्धि होती है।
  • ✔  लाल रक्त कण गोलाकार केन्द्र रहित तथा हीमोग्लोबिन युक्त रक्त कण है।
  •   डी.एन.एन. (DNA) का डबल हेलिक्स माॅडल “वाटसन एवं क्रिक (Watson and Crick)” ने बनाया था।
  •   लाल रक्त कण का जीवन काल 120 दिन का होता है।
  •   लाल रक्त कण का मुख्य कार्य आॅक्सीजन और कार्बन डाईआक्साइड का संवहन करना है।
  • श्वेत रक्त कण [White Blood Cells : WBC] –
  • ✔  श्वेत रक्त कण (WBC) का निर्माण अस्थिमज्जालिम्फ नोड (Lymph Node) तथा कभी-कभी यकृत (Liver)  एवं प्लीहा (Spleen) में होता है।
  • ✔  डब्ल्यूबीसी का आकार एवं संरचना “अमीबा (Ameba)” की तरह होता है।
  • ✔  डब्ल्यूबीसी का जीवनकाल 01 से 04 दिन होता है तथा यह रक्त में ही समाप्त हो जाता है।
  • ✔  WBC में केन्द्रक (Nucleus) पाया जाता है, WBC का मुख्य कार्य शरीर की रोगों के संक्रमण से रक्षा करना है।
  • ✔  RBC (आरबीसी) एवं WBC (डब्ल्यूबीसी) की उपस्थिति का अनुपात 600:1 होता है।
  • ✔  मानव शरीर में डब्ल्यू.बी.सी. (WBC) का जीवनकाल 01-04 दिन का होता है।
  • रक्त बिम्बाणु [Blood Platelets Or Thrombocytes] –
  • ✔  रक्त बिम्बाणु का निर्माण भी अस्थि-मज्जा (Bone Marrow) में ही होता है। इसमें भी केन्द्रक (Nucleus)‘ अनुपस्थित रहता है।
  • ✔  रक्त बिम्बाणु का जीवनकाल 03 से 05 दिन का होता हैइसकी मृत्यु प्लीहा में होती है।
  • ✔  रक्त बिम्बाणु (Blood Platelets) का मुख्य कार्य “रक्त का थक्का  (Clotting of Blood)” बनाने में मदद करना है।
  •   शरीर के ताप को नियंत्रित करनाघावों को भरनारक्त थक्का बनानापचे हुये भोजन उत्सर्जी पदार्थ तथा हारमोनों का संवहन करना आदि रक्त के कार्य हैं

रक्त थक्का [ Clotting of Blood ]  –

  • ✔  रक्त का थक्का निर्माण तीन (03) चरणों में सम्पन्न होता हैजो इस प्रकार है –
  • थ्रोम्बोप्लास्टिन   +  प्रोथ्रोम्बिन  +  कैल्शियम  =  थ्रोम्बिन,
  • थ्रोम्बिन  +  फाइब्रिनोजेन  =  फाइबरीन,
  • फाइबरीन  +  रक्त रूधिराणु  =  रक्त का थक्का (Blood Clotting)
  • ✔  प्रोथ्रोम्बिन (Prothrombin) तथा फाइब्रिनोजेन (Fibrinogen) का निर्माण ‘‘यकृत‘‘ में “विटामिन-K (Vitamin-K)”की उपस्थिति में होता है।
  • ✔  रक्त थक्का (Blood Clotting) बनाने के लिये अनिवार्य प्रोटीन ‘‘फाइब्रिनोजेन (Fibrinogen)‘‘ हैथक्का बनाने में 02से 05 मिनट का समय लगता है।

ह्रदय व रक्त :-

रक्त समूह की खोज किसने की

कार्ल लैंडस्टीनर

मानव रक्त में कितने समूह होते हैं

चार: A,B,AB,O

कौन सा रक्त सह सर्वग्राही होता है

AB

कौन सा रक्त वर्ग सर्वदाता होता है

O

मानव रक्त में कितने % प्लाज्मा होता है

06%

प्लाज्मा में कितने % जल होता है

90%

लाल रक्त कणिकाओं (RBC) का जीवनकाल कितना होता है

20 दिन

श्वेत रुधिर कणिकाओं (WBC) का जीवनकाल कितना होता है

2 से 5 दिन

RBC की सख्या किस यत्र के द्वारा मापी जाती है

हीमोसाइटोमीटर

श्वेत रुधिर कणिकाओं का कार्य क्या है

शरीर को संक्रामक रोगों से बचाना

RBC व WBC का शरीर में कितना अनुपात होता है

600:1

कार्ल लैंडस्टीनर को नोबेल पुरस्कार कब मिला

1930 र्ड़.

हीमोग्लोबिन में पाए जाने वाला लौह यौगिक कौन सा होता है

हीमैटिन

परिसंचरण तत्र की खोज किसने की

विलियम हार्वे ने 1628 ई.

मानव शरीर में सामान्य रुधिर दाब कितना होता है

120mm Hg/80mm Hg

सामान्यत: मानव शरीर में कितना रक्त होता है

5-6 लीटर

हृदय 1 मिनट में कितना रक्त पम्प कर सकता है

4.5 लीटर

किस रुधिर वर्ग में एटीबॉडी नहीं पायी जाती है

AB

किस रुधिर वर्ग में दोनों एंटीबॉडी पायी जाती है

O

RH समूह का पता किस जीव में लगाया गया

रीसस बंदर में

रुधिर किस प्रकार का ऊतक है

तरल संयोजी ऊतक

लाल रुधिर अणुओं का निर्माण भ्रूणावस्था में कहाँ होता है

यकृत में

RBC का निर्माण कहाँ होता है

अस्थिमज्जा में

पेशियों में श्वसन वर्णक कौन होता है

मायोग्लोबिन

ल्युकीमिया क्या है

रुधिर कैंसर

निद्रा के समय RBC की सख्या कितने % कम हो जाती है

5%

हृदय के विद्युत परिवर्तन को अंकित कौन करता है

इलेक्ट्रोकार्डियोग्राम (ECG)

रुधिर स्कंदन का समय कितना होता है

2 से 8 मिनट

मानव शरीर में रक्त की मात्रा उसके भार के कितने % होती है

भार का 7%

शरीर में हीमोग्लोबिन की मात्रा कम हो जाने पर कौन सा रोग हो जाता है

रक्त क्षीणता

प्लाज्मा में कितने % ग्लूकोज होता है

0.1%

एंटीबॉडी का मुख्य कार्य किसके विरूद्ध होता है

संक्रमण के विरूद्ध

रक्त को शुद्ध करने वाला अग कौन सा है

वृक्क

अधिक ऊँचाई पर जाने से मानव शरीर की लाल रक्त कणिकाओं पर क्या प्रभाव पडता है

उनकी संख्या बढ जाएगी

शरीर में हीमोग्लोबिन का क्या कार्य है

ऑक्सीजन का परिवहन

हीमोग्लोबिन किसका महत्वपूर्ण घटक है

RBC का

मानव शरीर में खून किसकी उपस्थिति के कारण नहीं जमता है

हिपेरिन

रक्त के जमने में किस तत्व की भूमिका मुख्य होती है

Ca

मनुष्य का रुधिर दाब किसके द्वारा मापा जाता है

स्फिग्मोमेनोमीटर

मनुष्य के शरीर को एक बार घडकने में कितना समय लगता है

0.8 सेकेंड

मानव हृदय में कितने कोष्ठ होते हैं

4

मानव शरीर में रुधिर बैक का कार्य कौन करता है

तिल्ली/प्लीहा

सर्वप्रथम रक्त परिसचरण तत्र का अध्ययन किसने किया था

विलियम हार्वे, ने

पेसमेकर का संबध किससे है

हृदय से

मानव शरीर के शुद्धिकरण की क्रिया क्या कहलाती है

डायलेसिस

Leave a Comment

/* ]]> */